Skip to main content

प्रेम कहानी | एक लड़की के पीछे पीछे घूमता रहा | best love story in hindi

Beautiful Love Story In Hindi
Beautiful Love Story In Hindi

Love story in hindi । best love story in hindi । new best love story in hindi

मै अपनी B.A. की पड़ाई पूरी करने के बाद मै नौकरी की तलास में अपने गॉव के एक दोस्त के साथ दिल्ली के पास नोएडा में आ गया ! मै जल्द ही MultiNational Company में Compuer operater के पद नौकरी कर ली ,फिर एक कमरा किराये पर लेकर रहने लगा जिस मकान मे रहता था वह तीन मंजिल मकान का था ! और मैं सबसे ऊपर वाली मंजिल पर रहता था एक दिन जब मै छत पर गया और इधर उधर टहलने लगा तभी मेरी अचानक नजर बगल वाले छत पर गई तो देखा एक लड़की हमे बड़े प्यार से देख रही हैं , मै भी उसे देखने लगा थोड़ी देर बाद वो मुस्कुराकर चली गई ! मुझे एैसा लगा की शायद वो मुझे like कर रही हैं !पता नही क्यो उस लड़की को बार -बार देखने को मन करता फिर मै हर दिन उसे देखने के लिये मै अपने छत पर जाया करता था, वो भी मुझे देखने के लिये आया करती थी ! एैसे ही ये सिल – सिला 6 महीनो तक चलता रहा फिर मै किसी तरह उस लड़की का नाम पता किया उस लड़की का नाम 'Rani' था ! वो BSC कर रही थी और साथ मे computer Course कर रही थी ! वो शाम को जब अपने Computer class से वापस लौटती तो ! मै जब भी डियूटी से आता उसको एक नजर देखने के लिये मै उसका रास्ते मे जाकर इन्तजार किया करता था , लेकिन कभी उससे बात नही होती ! न बात करने की हमारी हिम्मत होती !

Love story in hindi । best love story in hindi । new best love story in hindi

मै उसको इतना चाहने लगा था हर समय उसकी यादो मे खोया रहता था चाहे दिन हो चाहे रात हर समय उसका ही चेहरा दिखाई देता मै इतना पागल हो चुका था 'Rani' के प्यार में ! मै अपना कम्पनी में ठीक तरह से कार्य भी नही कर पा रहा था और हर दिन मैं अपने बोस की डाट खाता था और मुझे हर रोज नौकरी से निकलने की धमकी देते थे ! न जाने मुझे कौन स रोग लग गया था, मै लेकिन अब तक अपने दिल की बात 'Rani'' सें नही कह पाया था एैसा करते मुझे 2 साल बीत चुके थे और अब तक अपने प्यार का इजहार भी नही कर पाया था ! प्यार भी करता था और कहने से भी डरता था ! कितना पागल था मैं 'Rani'' ये बात जानती थी की मैं उसे like करता हूँ और प्यार भी करता हूँ एक दिन अचानक मुझे 'Rani'' मन्दिर में बुलाई , मुझे लगा की शायद वो मुझे कुछ कहना चाहती थी जो मैं कहना चाहता हूँ , आज मैं भी सोच रहा था की आज अपने दिल की बात कह ही देता हूँ ! मौका अच्छा हैं ! फिर मैं पहल सेे ही मन्दिर मे जाकर 'Rani'' का इन्तजार करने लगा फिर थोड़ी देर बाद 'Rani' आई तो मैं 'Rani' को देखकर बहुत खुश हुआ! जब 'Rani'' मेरे पास आयी और कही हाय 'xx' कैसे हो, मै -अच्छा हूँ आप कैसी है 'Rani' बोली ठीक हूँ ! फिर 'Rani'' मेरे से बोली 'xx' मै आपसे ये जानने के लिये आपको बुलाई हूँ कि मैं देख रही हूँ कि आप 2 सालो से मेरे पीछे-पीछे घूम रहे हैं 'xx' क्या आप ये जानते है कि मै आपसे प्यार नही करती हूँ , 'Rani' मेरे से इतना कहते ही मैं बिल्कुल मायूस हो गया और सोच में पड़ गया थोड़ी देर बाद मैं 'Rani' से बोला , मै- ये मै नही जानता था कि साझी जी की आप मुझसे प्यार नही करती है़ं ,

Love story in hindi । cute love stories in hindi । love story in hindi heart touching

लेकिन मै आपसे बहुत प्यार करता था और करता हूँ , I LOVE YOU 'Rani'' इतना कहते ही 'Rani' मेरे से कहने लगी प्यार एक तरफ से नही होता 'xx' प्यार दोनो तरफ से होता हैं क्यो अपना future मेरे पीछे बर्बाद कर रहे हों मै- 'Rani'' मैं आपसे प्यार करता हूँ , और आप future की बात कर रही हो मै तो आपके बिना जी नही पा रहा हूँ , हर पल आपकी यादो में खोया रहता हूँ 'Rani''- 'xx' मैं आपसे प्यार नही करती मैं सिर्फ अपने Future से प्यार करती हूँ , आज के बाद मेरे पीछे मत घूमना नही तो 'xx' आपके लिये अच्छा नही होगा मै- 'Rani'' क्या मेरा प्यार दिल लगी तक रह जाएगा !'Rani'' – हा 'xx' Verry sorry अपना ख्याल रखना इतना कह कर वो चली गई ,और मैं करता भी तो क्या करता बड़े दुख के साथ रोता हुआ अपने Room पर चला आया अभी तक मेरे जिन्दगी में इतना बड़ा दर्द कभी नही मिला था ! 'Rani'' मुझसे एक पल में वेवफा हो गई और मुझसे दूर हो गई दोस्तो I LOVE YOU यें इन तीन शब्द सुनने के लिये अब तक पीछे-पीछे घूमता रहा और जरूरत पड़े तो मरने को भी तैयार था ! इनइन तीन शब्दो के लिये उसकी छाया उसकी धड़कन उसकी सॉस बनकर उसके पास रहना चाहता था ! लेकिन इन्ही तीन शब्दो के लिये अपना सब कुछ खोकर आज मैं पागल बनकर रह गया हूँ , मॉ के पेट मे लड़का हैं या लड़की ये जानने के लिये दस महीने काफी होते है , मगर उसके दिल में क्या था यें जानने के लिये मुझे दो साल लग गये ,मगर गलती 'Rani'' की नही मेरी हैं ! लड़की के दिल में प्यार है या नही ये जानने के लिये एक घन्टे एक दिन एक साल काफी होते है ,

Girlfriend boyfriend love story । 2021 best hindi prem kahani । True love story in hindi

लेकिन मै दो सालो से उसके पीछे-पीछे घूमता रहा कितना पागल हूँ मैं , लेिकन इस पागल पन का िशकार एक अकेला मैं ही नही मेरे जैसे नौजवान लाखो हैं करोड़ो है जो मुम्बई के मरीन track में कोलकत्ता के पार्क स्टेट में चेन्नई के मरीना ब्रीज में या दिल्ली के कर्नाट प्लेस में हर शहर हर गली में सच्चे प्यार के लिये पागल बनकर घूम रहे हैं ! मगर उनके दिल में भरे हुए सच्चे प्यार को कोई लड़की समझती नही ! प्यार आदमी को पागल बना देता हैं खूनी बना देता है़ं मगर इसी प्यार नें हम जैसे पागल को इन्सान बना दिया ! जब मुझे प्यार से प्यार था तो वो मुझे बहुत पसंद थी ! वैसे भी प्यार के जाने बिना मर जाने से बेहतर हैं कि हम उस प्यार को जानकर भूल जाये दोस्तो एक आदमी के जीवन में 2 साल काफी होते हैं जो वक्त पड़ने के लिये कुछ बनने कें लिये होता हैं वो 2 साल मैने पागल पन में खो दिया दोस्तो जो मेरी तरह प्यार में पागल होकर अपनी जिम्मेदारियों कों भूल गये है शायद जो बात मेरे दिल से निकली हैं, आप लोगो के दिल में असर कर जायें दोस्तो मुझे एैसा प्यार नही चाहिंए ! 

Comments

Popular posts from this blog

चालाक लोमड़ी और कौवा - Chalak Lomdi aur Kauwa | Hindi Moral Story for Kids

हेलो बच्चो क्या आप Hindi Moral Stories for Kids सर्च कर रहे है | तो आप बिलकुल सही जगह पर आये है | आज हम आपसब को एक नई Hindi Moral Stories बताने जा रहा हूँ | इस Hindi Moral Stories से हमे जो भी शिक्षा मिलेगी उससे हमे प्रेणा लेना चहिये और आपने जीवन में उतरना चहिए |चालाक लोमड़ी और मूर्ख कौवा रतनापुर नामक एक जंगल में एक लोमड़ी रहती थी | वो बहुत ही भूखी थी |    Hindi Stories of Chalak Lomdi aur Kauwa वे अपने भूख मिटाने के लिए भोजन की तलाश में इधर-उधर घूमने लगी | उसने सारा जंगल छान मारा, जब उसे सारे जंगल में भटकने के बाद भी कुछ न मिला | तो वे गर्मी और भूख से परेशान होकर एक पेड़ के नीचे बैठ गयी |अचानक उसकी नजर ऊपर गयी पेड़ पर एक कौवा बैठा हुआ था | उस मुँह में एक रोटी टुकड़ा का था | कौवा के  मुँह में रोटी की टुकड़ा को देखकर उसकी मुँह में पानी भर आया |   Hindi Stories of Chalak Lomdi aur Kauwa    वे कौवा से  रोटी का टुकड़ा छीनने के उपाय सोचने लगी | उसी अचानक एक उपाय सुझा और तभी उसने कौवा को कहा- कौवा भैया कौवा भैया तुम बहुत सुंदर हो |  तुम्हारे जैसा सुंदर कौवा पूरे जंगल में नहीं है

कहानी: लालच बुरी बला है | Hindi Kahani for Kids

बच्चों आज में आपको Hindi Story सुनाने जा रहा हूँ| जो इस कहानी का नाम हैं, लालच बुरी बला है| यह बहुत पुरानी बात है। एक गांव में एक किसान रहता था। वो काफी परेशान था, उस  गाँव में सभी की फसल अच्छी होती थी, लेकिन किसान की फसल इतनी अच्छी नहीं होती थी, उसके पास इतना धन भी नहीं था। जिससे वो अपनी खेती के लिए अच्छे बीज या फिर उन्नत तकनीकें खरीद सके काफी समय से उसकी फसल सूखे हुई थी।  एक दिन वह किसान परेशानी के कारण अपने खेत में ही सो जाता है। और अपने घर नहीं जाता अगले दिन जब सुबह होती है। तो वह किसान उठता है, और उसे उस खेत के पास सांप नजर आता है। तो वो सोचने लगता है अरे साथ मेरे खेत के पास है लगता है इस खेत का कोई देवता है| और मैने इसकी पूजा नहीं की इसलिए मेरा खेत सूख गया है मेरी फ़सल भी सूखी हुई है कल से मैं इसके लिए रोज़ दूध जाऊंगा| और इसे दूध पिलाकर में इसका आशीर्वाद ग्रहण करूँगा| शायद मेरी फसल अच्छी हो जाए इतना कहता हैं, किसान चला जाता है और अपने घर से एक कटोरी दूध लाता है| और किसान उस दूध को साफ के पास रख कर कहता है|  ये सब पहले मैं नहीं जानता था, कि आप इस खेत के देवता हैं, और मै

धोखेबाज़ दोस्त – Hindi Naitik Kahaniya

हेलो हमारे प्यारे बच्चों क्या आप लोग हिंदी Naitik Shiksha ki Kahaniya सर्च कर रहे है | तो चिंता की कोई बात नहीं है | आज हम आप सबको एक  Hindi Naitik Kahaniya बतएगे | अमरा पुर गांव में मधु और गोपल नाम  के दो मित्र रहते थे | मधु बहुत ही अलसी और कामचोर था, और गोपाल बहुत ही परिश्रमी था | वह अपना काम पूरी लगन से करता था | Naitik kahaniya वो दोनों एक ही गांव के जमींदार मोहन चौधरी की जमीन पर काम करते थे | गोपाल पूरा मन लागा कर काम करता था, और मधु अपने बैल को बांधकर पेड़ के नीचे गमछा बिछाकर सोता रहता था | और जैसे ही सूर्य अस्त हो जाता मधु अपने पूरे शरीर में मिट्टी लगाकर और बैल को भी मिट्टी लगाकर जमींदार के पास लें जाता था | जमींदार बाबू देखा था कि उसने बहुत काम किया है | और गोपाल खेतों का काम खत्म होने के बाद अपने बेलों को नहलाकर कर, ओर खुद भी अच्छे से स्नान कर के साफ सुथरा होकर घर वापस जाता था | ज़मीदार बाबू मधु के इस झूठ को पकड़ नहीं पाते थे |  वे सोचते थे कि मधु बहुत ही परिश्रम हैं | और गोपाल बहुत ही कमजोर है | इस लिए जिम्मेदार बाबू ने रसोइये से कहा देखो मधु बहुत