Skip to main content

चालाक लोमड़ी और कौवा - Chalak Lomdi aur Kauwa | Hindi Moral Story for Kids

हेलो बच्चो क्या आप Hindi Moral Stories for Kids सर्च कर रहे है | तो आप बिलकुल सही जगह पर आये है | आज हम आपसब को एक नई Hindi Moral Stories बताने जा रहा हूँ | इस Hindi Moral Stories से हमे जो भी शिक्षा मिलेगी उससे हमे प्रेणा लेना चहिये और आपने जीवन में उतरना चहिए |चालाक लोमड़ी और मूर्ख कौवा रतनापुर नामक एक जंगल में एक लोमड़ी रहती थी | वो बहुत ही भूखी थी | 
 
Hindi Moral Story for Kids
Hindi Stories of Chalak Lomdi aur Kauwa
वे अपने भूख मिटाने के लिए भोजन की तलाश में इधर-उधर घूमने लगी | उसने सारा जंगल छान मारा, जब उसे सारे जंगल में भटकने के बाद भी कुछ न मिला | तो वे गर्मी और भूख से परेशान होकर एक पेड़ के नीचे बैठ गयी |अचानक उसकी नजर ऊपर गयी पेड़ पर एक कौवा बैठा हुआ था | उस मुँह में एक रोटी टुकड़ा का था | कौवा के  मुँह में रोटी की टुकड़ा को देखकर उसकी मुँह में पानी भर आया |
 
Hindi Moral Story for Kids
Hindi Stories of Chalak Lomdi aur Kauwa
 
 वे कौवा से  रोटी का टुकड़ा छीनने के उपाय सोचने लगी | उसी अचानक एक उपाय सुझा और तभी उसने कौवा को कहा- कौवा भैया कौवा भैया तुम बहुत सुंदर हो |  तुम्हारे जैसा सुंदर कौवा पूरे जंगल में नहीं है | मैने तुम्हारी बहुत प्रशंसा सुनी है | मैंने सुना है तुम गीत बहुत अच्छा गाती हो | तुम्हारी सुरीली मधुर आवाज़ के सभी दीवाने हैं | मैं भी तुम्हारा गीत सुनना चाहती हूँ | क्या मुझे आप अपना सुरीला गीत नहीं सुना होगी | तब अपनी प्रशंसा को सुनकर कौवा बहुत खुश हुआ | वह लोमड़ी की मीठी- मीठी बातों में आ गया | और बिना कुछ सोचे समझे उसने गान गाने के लिए मुँह खोल दिया | उसने जैसे ही अपना मुँह खोला रोटी का टुकड़ा नीचे गिर गया |
 
Hindi Moral Story for Kids
Hindi Stories of Chalak Lomdi aur Kauwa
 
भूखी लोमड़ी  ने झट से वे रोटी का टुकड़ा उठाया और वहाँ से भाग गयी | यह देख कर  कौवा आपने  मूर्खता पर पछताने लगा | लेकिन अब पछताने से क्या होना था |चतुर लोमड़ी ने मूर्ख कोवा की मूर्खता का लाभ उठाया और अपना फायदा किया |
Hindi Moral Stories
Hindi Stories of Chalak Lomdi aur Kauwa
तो बच्चो इस कहानी से हमें क्या सीख मीलती है की हमें अपनी झूठी प्रशंसा से हमेशा बचना चाहिए | कई बार हमें कई लोग ऐसे मिलते हैं | जो अपना काम निकालने के लिए हमारी झूठी तारीफ करते हैं | और अपना काम निकल जाने के बाद पूछते भी नहीं है | तो बच्चो कैसी लगी आपको हमारी ये कहानी ऐसे ही और कहानी सुनने के लिए आप हमें सबसाइट करें|  और आपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे |
 
 

Comments

Popular posts from this blog

कहानी: लालच बुरी बला है | Hindi Kahani for Kids

बच्चों आज में आपको Hindi Story सुनाने जा रहा हूँ| जो इस कहानी का नाम हैं, लालच बुरी बला है| यह बहुत पुरानी बात है। एक गांव में एक किसान रहता था। वो काफी परेशान था, उस  गाँव में सभी की फसल अच्छी होती थी, लेकिन किसान की फसल इतनी अच्छी नहीं होती थी, उसके पास इतना धन भी नहीं था। जिससे वो अपनी खेती के लिए अच्छे बीज या फिर उन्नत तकनीकें खरीद सके काफी समय से उसकी फसल सूखे हुई थी।  एक दिन वह किसान परेशानी के कारण अपने खेत में ही सो जाता है। और अपने घर नहीं जाता अगले दिन जब सुबह होती है। तो वह किसान उठता है, और उसे उस खेत के पास सांप नजर आता है। तो वो सोचने लगता है अरे साथ मेरे खेत के पास है लगता है इस खेत का कोई देवता है| और मैने इसकी पूजा नहीं की इसलिए मेरा खेत सूख गया है मेरी फ़सल भी सूखी हुई है कल से मैं इसके लिए रोज़ दूध जाऊंगा| और इसे दूध पिलाकर में इसका आशीर्वाद ग्रहण करूँगा| शायद मेरी फसल अच्छी हो जाए इतना कहता हैं, किसान चला जाता है और अपने घर से एक कटोरी दूध लाता है| और किसान उस दूध को साफ के पास रख कर कहता है|  ये सब पहले मैं नहीं जानता था, कि आप इस खेत के देवता हैं, और मै

धोखेबाज़ दोस्त – Hindi Naitik Kahaniya

हेलो हमारे प्यारे बच्चों क्या आप लोग हिंदी Naitik Shiksha ki Kahaniya सर्च कर रहे है | तो चिंता की कोई बात नहीं है | आज हम आप सबको एक  Hindi Naitik Kahaniya बतएगे | अमरा पुर गांव में मधु और गोपल नाम  के दो मित्र रहते थे | मधु बहुत ही अलसी और कामचोर था, और गोपाल बहुत ही परिश्रमी था | वह अपना काम पूरी लगन से करता था | Naitik kahaniya वो दोनों एक ही गांव के जमींदार मोहन चौधरी की जमीन पर काम करते थे | गोपाल पूरा मन लागा कर काम करता था, और मधु अपने बैल को बांधकर पेड़ के नीचे गमछा बिछाकर सोता रहता था | और जैसे ही सूर्य अस्त हो जाता मधु अपने पूरे शरीर में मिट्टी लगाकर और बैल को भी मिट्टी लगाकर जमींदार के पास लें जाता था | जमींदार बाबू देखा था कि उसने बहुत काम किया है | और गोपाल खेतों का काम खत्म होने के बाद अपने बेलों को नहलाकर कर, ओर खुद भी अच्छे से स्नान कर के साफ सुथरा होकर घर वापस जाता था | ज़मीदार बाबू मधु के इस झूठ को पकड़ नहीं पाते थे |  वे सोचते थे कि मधु बहुत ही परिश्रम हैं | और गोपाल बहुत ही कमजोर है | इस लिए जिम्मेदार बाबू ने रसोइये से कहा देखो मधु बहुत